Wednesday, November 27, 2013

पुस्तक समीक्षा: दुष्यंत कुमार की 'साये में धूप'

'साये में धूप' दुष्यंत कुमार की ग़ज़लों का एक क्रांतिकारी संग्रह है जिसमें राजनीतिक आक्रोश व सामाजिक विषमतायें प्रमुख हैं| इस संग्रह से उन्होंने हिंदी ग़ज़लों का एक नया आयाम स्थापित किया है| 

My Rating: 4 out of 5 stars

Post a Comment